HomeCurrent Affairs HindiShankaracharya Jayanti 2022: आप सभी को जानना आवश्यक है

Shankaracharya Jayanti 2022: आप सभी को जानना आवश्यक है

Shankaracharya Jayanti 2022 : आदि शंकराचार्य एक भारतीय गुरु और दार्शनिक थे। जानिए आदि शंकराचार्य की 1234वीं जयंती की तिथि, समय और महत्व के बारे में।

Adi Shankaracharya Jayanti वैशाख महीने में शुक्ल पक्ष के दौरान पंचमी तिथि को पड़ती है। यह दिन महान भारतीय गुरु और दार्शनिक आदि शंकर को याद करने के लिए मनाया जाता है। उनका जन्म 788 CE में केरल में स्थित एक स्थान कलाडी में हुआ था, आमतौर पर उनकी जयंती अप्रैल और मई के बीच पड़ती है। उन्होंने हिंदू दर्शन के पुनरुद्धार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

आदि शंकराचार्य कौन थे?

माता-पिता के घर जन्मे, जो भगवान शिव के प्रबल उपासक थे, आदि शंकराचार्य एक वैदिक विद्वान और एक शिक्षक थे, जो हिंदू दर्शन पर अपने काम के लिए जाने जाते थे।

सन्यास में उनकी यात्रा उनकी माँ की मगरमच्छ की घटना से शुरू हुई जिसमें उनका मानना ​​था कि आदि शंकराचार्य कोई साधारण व्यक्ति नहीं थे।

वह अपने काम के लिए लोकप्रिय थे जो शास्त्रों के सामंजस्यपूर्ण पठन को प्रस्तुत करता है।

शंकराचार्य ने अपने समय की अद्वैत वेदांत शिक्षाओं का संश्लेषण करके स्वयं के ज्ञान को उसके मूल में मुक्त किया।

शंकराचार्य का साहित्यिक कार्य

शंकराचार्य एक अद्भुत कवि थे और उनका झुकाव ‘दिव्य प्रेम’ की ओर था।

उनके साहित्यिक कार्यों में भक्ति गीत, और सौंदर्य लहरी, शिवानंद लहरी, निर्वाण शाल्कम और मनीषा पंचकम जैसे ध्यानपूर्ण भजन शामिल थे।

आदि शंकराचार्य जयंती 2022: दिनांक और समय

आदि शंकराचार्य जयंती 2022दिनांकसमय
पंचमी तिथि शुरू5 मई 2022सुबह 10 बजे
पंचमी तिथि समाप्त6 मई 202212:32 अपराह्न

आदि शंकराचार्य जयंती 2022: महत्व

यह दिन हिंदू धर्म के पुनरुद्धार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

गठित सिद्धांतों का आज तक संबंधित संप्रदायों द्वारा पालन किया जाता है।

आदि शंकर, माधव और रामानुज हिंदू दर्शन के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति माने जाते हैं।

आदि शंकराचार्य जयंती 2022: उद्धरण

धन, लोगों, सम्बन्धियों और मित्रों, या यौवन पर अभिमान मत करो। पलक झपकते ही ये सब समय के साथ छीन लिया जाता है। इस मायावी संसार को त्याग कर परमात्मा को जानो और प्राप्त करो।

मोती की मां में चांदी की उपस्थिति की तरह, दुनिया तब तक वास्तविक लगती है जब तक कि स्वयं, अंतर्निहित वास्तविकता का एहसास नहीं हो जाता।

प्रत्येक वस्तु अपने स्वभाव की ओर बढ़ने लगती है। मैं हमेशा सुख की कामना करता हूं, जो कि मेरा वास्तविक स्वरूप है। मेरा स्वभाव मेरे लिए कभी बोझ नहीं है। खुशी मेरे लिए कभी बोझ नहीं है, जबकि दुख है।

भगवद-गीता के स्पष्ट ज्ञान से, मानव अस्तित्व के सभी लक्ष्य पूरे हो जाते हैं। भगवद-गीता वैदिक शास्त्रों की सभी शिक्षाओं का प्रकट सार है।

बंधन से मुक्त होने के लिए, बुद्धिमान व्यक्ति को एक-स्व और अहंकार-स्व के बीच भेदभाव का अभ्यास करना चाहिए। केवल उसी से, आप अपने आप को एक शुद्ध प्राणी, चेतना और आनंद के रूप में पहचानते हुए आनंद से भरे हो जाएंगे।

RELATED ARTICLES

Most Popular