Advertisement
HomeGeneral Knowledgeभारत में बेरोजगारी के प्रकार पर जीके प्रश्न और उत्तर

भारत में बेरोजगारी के प्रकार पर जीके प्रश्न और उत्तर

बेरोजगारी पर इन 10 सवालों के जवाब नीचे दी गई प्रश्नोत्तरी में दें। प्रश्नोत्तरी कुछ महीनों में होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठने वाले विभिन्न उम्मीदवारों के लिए फायदेमंद होगी।

1. भारत में किस प्रकार की बेरोजगारी पाई जाती है?

  1. संरचनात्मक बेरोजगारी
  2. मौसमी बेरोजगारी
  3. भेस बेरोजगारी
  4. ऊपर के सभी

उत्तर। डी

व्याख्या: भारत में विभिन्न प्रकार के बेरोजगार लोग हैं। उन्हें ऊपर सूचीबद्ध प्रत्येक में वर्गीकृत किया जा सकता है।

2. यदि कोई व्यक्ति बाजार में प्रचलित मजदूरी दर पर काम करने के लिए तैयार है, लेकिन उसे काम नहीं मिल रहा है, तो इसे किस प्रकार की बेरोजगारी कहा जाएगा?

  1. स्वैच्छिक बेरोजगारी
  2. अनैच्छिक बेरोजगारी
  3. मौसमी बेरोजगारी
  4. इनमे से कोई भी नहीं

उत्तर। बी

व्याख्या: अनैच्छिक बेरोजगारी एक प्रकार की बेरोजगारी है जिसमें व्यक्ति काम करना चाहता है लेकिन उसे नौकरी नहीं मिलती है क्योंकि देश की अर्थव्यवस्था में एक प्रदान करने की कमी है।

3. जो प्रकार बेरोजगारी की दर में श्रमिकों की सीमांत उत्पादकता शून्य है?

  1. प्रच्छन्न बेरोजगारी
  2. अनैच्छिक बेरोजगारी
  3. मौसमी बेरोजगारी
  4. संरचनात्मक बेरोजगारी

उत्तर। ए

व्याख्या: प्रच्छन्न बेरोजगारी एक ऐसी घटना है जिसमें वास्तव में आवश्यकता से अधिक लोगों को नियोजित किया जाता है। यही कारण है कि यहां श्रमिकों की सीमांत उत्पादकता शून्य है।

4 क्या प्रकार विकसित देशों में बेरोजगारी की मात्रा पायी जाती है ?

  1. अनैच्छिक बेरोजगारी
  2. स्वैच्छिक बेरोजगारी
  3. संरचनात्मक बेरोजगारी
  4. प्रच्छन्न बेरोजगारी

उत्तर। बी

व्याख्या: विकसित देश में लोगों को रोजगार तो आसानी से मिल जाता है लेकिन वे प्रचलित मजदूरी दर पर काम करने के लिए तैयार नहीं होते हैं। इसलिए वे स्वेच्छा से बेरोजगार हैं।

5. यदि किसी कंपनी में नए कंप्यूटर लगाए जा रहे हैं और कुछ कर्मचारियों को कंप्यूटर ज्ञान की कमी के कारण नौकरी से निकाल दिया जाता है तो इसे किस प्रकार की बेरोजगारी कहा जाएगा?

  1. प्रच्छन्न बेरोजगारी
  2. संरचनात्मक बेरोजगारी
  3. छिपी हुई बेरोजगारी
  4. प्रतिरोधात्मक बेरोजगारी

उत्तर। बी

व्याख्या: बेरोजगारी की यह श्रेणी बाजार में उपलब्ध नौकरियों और बाजार में उपलब्ध श्रमिकों के कौशल के बीच बेमेल होने से उत्पन्न होती है। यदि उनके बीच कोई बेमेल है, तो संरचनात्मक बेरोजगारी उत्पन्न होती है।

6. क्या प्रकार भारत के कृषि क्षेत्र में बेरोजगारी का प्रतिशत पाया जाता है?

प्रच्छन्न बेरोजगारी

स्वैच्छिक बेरोजगारी

प्रतिरोधात्मक बेरोजगारी

इनमे से कोई भी नहीं

उत्तर। ए

व्याख्या: भारत में कृषि क्षेत्र में जरूरत से ज्यादा लोग काम कर रहे हैं या उस पर निर्भर हैं। यही कारण है कि इसे प्रच्छन्न बेरोजगारी के अंतर्गत माना जाता है।

7. चक्रीय और घर्षण बेरोजगारी …… में पाई जाती है ?

  1. कम विकसित और विकासशील देश दोनों
  2. विकासशील देश
  3. विकसित देशों
  4. कम विकसित देश

उत्तर। सी

व्याख्या: विकसित देशों में मुख्य रूप से चक्रीय और घर्षण बेरोजगारी पाई जाती है। चक्रीय बेरोजगारी मंदी के दौरान बढ़ती है और आर्थिक विकास के साथ घटती है।

8. प्रच्छन्न बेरोजगारी की अवधारणा किसने विकसित की?

  1. जॉन कीन्स
  2. अमर्त्य सेन
  3. जॉन रॉबिन्सन
  4. अल्फ्रेड मार्शल

उत्तर। सी

व्याख्या: जॉन रॉबिन्सन वह व्यक्ति था जिसने प्रच्छन्न रोजगार की अवधारणा विकसित की थी।

9. बेरोजगारी दर जानने का सही फॉर्मूला क्या है?

  1. बेरोजगारों की कुल संख्या / कुल श्रम शक्ति X 100
  2. कुल श्रम बल / बेरोजगारों की कुल संख्या x 100
  3. बेरोजगारों की कुल संख्या / कुल श्रम शक्ति x 1000
  4. कुल श्रम बल / बेरोजगारों की कुल संख्या x 1000

उत्तर। ए

व्याख्या: बेरोजगारों की कुल संख्या / कुल श्रम शक्ति को 100 से गुणा करना बेरोजगारी दर ज्ञात करने का सही सूत्र है।

10. किसी देश की श्रम शक्ति में किसे गिना जाता है?

  1. 18 से 60 वर्ष की आयु की जनसंख्या
  2. 15 से 65 वर्ष की आयु की जनसंख्या
  3. 18 से 65 वर्ष की आयु की जनसंख्या
  4. 21 से 62 वर्ष की आयु की जनसंख्या

उत्तर बी

व्याख्या: किसी देश की श्रम शक्ति में 15 से 65 वर्ष की जनसंख्या सम्मिलित होती है।

भारतीय अर्थव्यवस्था पर 600+ सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

.

- Advertisment -

Tranding